Vrikshasana वृक्षासन आसन करने की विधि और लाभ
वृक्षासन संस्कृत शब्द वृक्ष को अंग्रेजी में ट्री कहते हैं। इसके पर्यायवाची शब्द है झाड़ और पेड़। वृक्षासन को करने से व्यक्ति की आकृति वृक्ष के समान नजर आती है इसीलिए इसे वृक्षासन कहते हैं।

Vrikshasana वृक्षासन आसन करने की विधि और लाभ

वृक्षासन

Vrikshasana संस्कृत शब्द वृक्ष को अंग्रेजी में ट्री कहते हैं। इसके पर्यायवाची शब्द है झाड़ और पेड़। वृक्षासन को करने से व्यक्ति की आकृति वृक्ष के समान नजर आती है इसीलिए इसे वृक्षासन कहते हैं।

अवधि/दोहराव
जब तक इस आसन की स्थिति में आसानी से संतुलन बनाकर रह सकते हैं सुविधानुसार उतने समय तक रहें। एक पैर से दो या तीन बार किया जा सकता है।

Vrikshasana आसन की विधि


पहले सावधान मुद्रा में खड़े हो जाएं। Vrikshasana

फिर दोनों पैरों को एक दूसरे से कुछ दूर रखते हुए खड़े रहें और फिर हाथों को सिर के ऊपर उठाते हुए सीधाकर हथेलियों को मिला दें।

इसके बाद दाहिने पैर को घुटने से मोड़ते हुए उसके तलवे को बाईं जांघ पर टिका दें।

इस स्थिति के दौरान दाहिने पैर की एड़ी गुदाद्वार-जननेंद्री के नीचे टिकी होगी।

बाएं पैर पर संतुलन बनाते हुए हथेलियां, सिर और कंधे को सीधा एक ही सीध में रखें। यह स्थिति वृक्षासन की है।

वृक्षासन से लाभ

इससे पैरों की स्थिरता और मजबूती का विकास होता है। यह स्नायुमण्डल का विकास कर पैरों को स्थिरता प्रदान करता है। यह कमर और कुल्हों के आस पास जमीं अतिरिक्त चर्बी को हटाता है तथा दोनों ही अंग इससे मजबूत बने रहते हैं। यह तोंद नहीं निकलने देता

इस सबके कारण इससे मन का संतुलन बढ़ता है। मन में संतुलन होने से आत्मविश्वास और एकाग्रता का विकास होता। इसे निरंतर करते रहने से शरीर और मन में सदा स्फूर्ति बनी रहती है।

Vrikshasana वृक्षासन आसन करने की विधि और लाभ
Vrikshasana वृक्षासन आसन करने की विधि और लाभ

इन्हें भी पढ़ें 👇

  1. Plastic toys प्लास्टिक के खिलौने बच्चों की सेहत के लिए खतरनाक
  2. Chukandar चुकंदर बनाएगा आपको जवान और खूबसूरत चुकंदर के फायदे
  3. Samaveda चार वेदों में से एक सामवेद के बारे में जाने
  4. Ekpadasana yoga एकपादासन करने की विधि और सावधानी जाने
  5. Sunburn तेज़ धूप से अपनी त्वचा को सुरक्षित रखें सनबर्न का इलाज
  6. Body odour पसीने और शरीर की बदबू दूर करने के घरेलू उपाय
  7. Bhaagwat puraan भागवत पुराण परिचय, सृष्टि-उत्पत्ति और वर्णन
  8. Makhana रोज खाएं मखाना और बीमारियों कई बीमारियों से बचें
  9. Gomukhasana yoga गोमुखासन करने की विधि और लाभ
  10. Neem नीम के औषधीय फायदे और सावधानी neem remidies
  11. Agni puran से बुद्ध और कल्कि अवतार भगवान् विष्णु के अवतार कि कथा
  12. Natarajasana yoga karne ka tarika or savdhani
  13. Tulsi के 140 आयुर्वेदिक औषधीय लाभ जो रखे आपको स्वस्थ
  14. Historical places of India भारत के ऐतिहासिक स्थल
  15. Papita पपीता के आयुर्वेदिक औषधियां फायदे
  16. Vedas हिन्दू वेदों के प्रकार, इतिहास, वेद-सार और भी बहोत कुछ जानें
  17. Giloy ke fayde स्वाइन फ्लू, डेंगू और चिकनगुनिया के लिए रामबाण है
  18. Egg peel अंडे के छिलके से पाए खूबसूरत त्वचा जाने इस्तेमाल का तरीका
  19. Vrschikasana yoga करने का सही तरीका लाभ और सावधानी
  20. Chaval ke face pack se 2 din me hoga rang gora
  21. Aromatherapy बेहतर यौन जीवन के लिए अरोमाथेरेपी
  22. Hindu dharmgranth and culture हिन्दू धर्मग्रन्थ और हिन्दू संस्कृति
  23. Hindu dharm हिंदू धर्म का इतिहास और मुख्य सिद्धांत
  24. Til khane ke fayde तिल खाने के औषधीय लाभ
  25. Virasana yoga वीरासन योग करने का तरीका और लाभ
  26. Bakasana yoga बकासन करने का तरीका और लाभ
  27. Sadness उदासी दूर करना चाहते हैं, तो इन 5 चीजों से बनाए दूरी
VIFITKIT® Yoga Mat Anti Skid EVA Yoga mat with Bag for Gym Workout and Flooring Exercise Long Size Yoga Mat for Men and Women (Blue 3mm)

Rajji Nagarkoti

My name is Abhijeet Nagarkoti . I am 31 years old. I am from dehradun, uttrakhand india . I study mechanical. I can speak three languages, Hindi, Nepali, and English. I like to write blogs and article

Leave a Reply