Samaveda चार वेदों में से एक सामवेद के बारे में जाने
सामवेद साम' शब्द का अर्थ है 'गान'। सामवेद में संकलित मंत्रों को देवताओं की स्तुति के समय गाया जाता था। सामवेद में कुल 1875 ऋचायें हैं। जिनमें 75 से अतिरिक्त शेष ऋग्वेद से ली गयी हैं। इन ऋचाओं का गान सोमयज्ञ के समय 'उदगाता' करते थे। सामदेव की तीन महत्त्वपूर्ण शाखायें हैं-

Samaveda चार वेदों में से एक सामवेद के बारे में जाने

चार वेदों में से एक सामवेद के बारे में जाने

Samaveda साम’ शब्द का अर्थ है ‘गान’। सामवेद में संकलित मंत्रों को देवताओं की स्तुति के समय गाया जाता था। सामवेद में कुल 1875 ऋचायें हैं। जिनमें 75 से अतिरिक्त शेष ऋग्वेद से ली गयी हैं। इन ऋचाओं का गान सोमयज्ञ के समय ‘उदगाता’ करते थे। सामदेव की तीन महत्त्वपूर्ण शाखायें हैं-

1.कौथुमीय,
2.जैमिनीय एवं
3.राणायनीय

देवता विषयक विवेचन की दृष्ठि से सामवेद का प्रमुख देवता ‘सविता’ या ‘सूर्य’ है, इसमें मुख्यतः सूर्य की स्तुति के मंत्र हैं किन्तु इंद्र सोम का भी इसमें पर्याप्त वर्णन है। Samaveda

भारतीय संगीत के इतिहास के क्षेत्र में सामवेद का महत्त्वपूर्ण योगदान रहा है।

इसे भारतीय संगीत का मूल कहा जा सकता है।

Samaveda का प्रथम द्रष्टा वेदव्यास के शिष्य जैमिनि को माना जाता है।

सामवेद से तात्पर्य है कि वह ग्रन्थ जिसके मन्त्र गाये जा सकते हैं और जो संगीतमय हों।

यज्ञ, अनुष्ठान और हवन के समय ये मन्त्र गाये जाते हैं।

सामवेद में मूल रूप से 99 मन्त्र हैं और शेष ऋग्वेद से लिये गये हैं।

इसमें यज्ञानुष्ठान के उद्गातृवर्ग के उपयोगी मन्त्रों का संकलन है।

इसका नाम सामवेद इसलिये पड़ा है कि इसमें गायन-पद्धति के निश्चित मन्त्र ही हैं।

इसके अधिकांश मन्त्र ऋग्वेद में उपलब्ध होते हैं, कुछ मन्त्र स्वतन्त्र भी हैं।

Samaveda चार वेदों में से एक सामवेद के बारे में जाने

सामवेद में ऋग्वेद की कुछ ॠचाएं आकलित है।

वेद के उद्गाता, गायन करने वाले जो कि सामग (साम गान करने वाले) कहलाते थे।

उन्होंने वेदगान में केवल तीन स्वरों के प्रयोग का उल्लेख किया है जो उदात्त, अनुदात्त तथा स्वरित कहलाते हैं।

सामगान व्यावहारिक संगीत था। उसका विस्तृत विवरण उपलब्ध नहीं हैं।

वैदिक काल में बहुविध वाद्य यंत्रों का उल्लेख मिलता है जिनमें से

1.तंतु वाद्यों में कन्नड़ वीणा, कर्करी और वीणा,
2.घन वाद्य यंत्र के अंतर्गत दुंदुभि, आडंबर,
3.वनस्पति तथा सुषिर यंत्र के अंतर्गतः तुरभ, नादी तथा
4.बंकुरा आदि यंत्र विशेष उल्लेखनीय हैं।

सामवेद से संदेश-उषाकाल में जागना स्वास्थ्यवर्द्धक

सामवेद में कहा गया है कि

उस्त्रा देव वसूनां कर्तस्य दिव्यवसः।

”उषा वह देवता है जिससे रक्षा के तरीके सीखे जा सकते हैं।”

ते चित्यन्तः पर्वणापर्वणा वयम्।

”हम प्रत्येक पर्व में तेरा चिंत्न करें”

प्रातः उठने से न केवल विकार दूर होते हैं वरन् जीवन में कर्म करने के प्रति उत्साह भी पैदा होता है।

चार वेदों में से एक सामवेद के बारे में जाने

अगर हम आत्ममंथन करें तो पायेंगे कि हमारे अंदर शारीरिक और मानसिक विकारों का सबसे बड़ा कारण ही सूर्योदय के बाद नींद से उठना है।

हमारी समस्या यह नही है कि हमें कहीं सही इलाज नहीं मिलता बल्कि सच बात यह है कि अपने अंदर विकारों के आगमन का द्वार हम सुबह देरसे उठकर स्वयं ही खोलते हैं।

बेहतर है कि हम सुबह सैर करें या योगसाधना करें। व्यायाम करना भी बहुत अच्छा है।

सामवेद से संदेश-अच्छा काम करने के लिये सत्य ही शस्त्र samaveda

अंग्रेज विद्वान जार्ज बर्नाड शॉ के अनुसार बिना बेईमानी के कोई भी धनी नहीं हो सकता।

हमारे देश में अंग्रेजी राज व्यवस्था, भाषा, साहित्य, संस्कृति तथा संस्कारों ने जड़ तक अपनी स्थापना कर ली है जिसमे छद्म रूप की प्रधानता है।

इसलिये अब यहां भी कहा जाने लगा है कि सत्य, ईमानदारी, तथा कर्तव्यनिष्ठा से कोई काम नहीं बन सकता।

दरअसल हमारे यहां समाज कल्याण अब राज्य की विषय वस्तु बन गया है इसलिये धनिक लोगों ने इससे मुंह मोड़ लिया है।

लोकतंत्र में राजपुरुष के लिये यह अनिवार्य है कि वह लोगों में अपनी छवि बनाये रखें इसलिये वह समाज में अपने आपको एक सेवक के रूप में प्रस्तुत कर कल्याण के ने नारे लगाते हैं।

वह राज्य से प्रजा को सुख दिलाने का सपना दिखाते हैं।

VEDAS a Set of 4 books(YajurVeda,RigVeda, SamaVeda, AtharvaVeda)

Samaveda चार वेदों में से एक सामवेद के बारे में जाने

योजनायें बनती हैं, पैसा व्यय होता है पर नतीजा फिर भी वही ढाक के तीन पात रहता है।

इसके अलावा गरीब, बेसहारा, बुजुर्ग, तथा बीमारों के लिये भारी व्यय होता है जिसके लिये बजट में राशि जुटाने के लिये तमाम तरह के कर लगाये गये हैं।

इन करों से बचने के लिये धनिक राज्य व्यवस्था में अपने ही लोग स्थापित कर अपना आर्थिक साम्राज्य बढ़ात जाते हैं ।

उनका पूरा समय धन संग्रह और उसकी रक्षा करना हो गया है इसलिये धर्म और दान उनके लिये महत्वहीन हो गया है।

सामवेद में कहा गया है कि।

ऋतावृधो ऋतस्पृशौ बहृन्तं क्रतुं ऋतेन आशाये।

”सत्य प्रसारक तथा सत्य को स्पर्श करने वाला कोई भी महान कार्य सत्य से ही करते हैं।

सत्य सुकर्म करने वाला शस्त्र है।”

”वार्च वर्थय।

”सत्य वचनों का विस्तार करना चाहिए।”

वाचस्पतिर्मरवस्यत विश्वस्येशान ओजसः।

”विद्वान तेज हो तो पूज्य होता है।”

Samaveda चार वेदों में से एक सामवेद के बारे में जाने

कहने का अभिप्राय है कि हमारे देश में सत्य की बजाय भ्रम और नारों के सहारे ही आर्थिक, राजकीय तथा सामाजिक व्यवस्था चल रही है।

राज्य ही समाज का भला करेगा यह असत्य है।

एक मनुष्य का भला दूसरे मनुष्य के प्रत्यक्ष प्रयास से ही होना संभव है पर लोकतांत्रिक प्रणाली में राज्य शब्द निराकार शब्द बन गया है।

करते लोग हैं पर कहा जाता है कि राज्य कर रहा है।

अच्छा करे तो लोग श्रेय लेेते हैं और बुरा हो तो राज्य के खाते में डाल देते हैं।

इस एक तरह से छद्म रूप से ही हम अपने कल्याण की अपेक्षा करते हैं जो कि अप्रकट है।

भारतीय अध्यात्म ज्ञान से समाज के परे होने के साथ ही विद्वानों का राजकीयकरण हो गया है।

ऐसे में असत्य और कल्पित रचनाकारों को राजकीय सम्मान मिलता है और समाज की स्थिति यह है कि सत्य बोलने विद्वानों से पहले लोकप्रियता का प्रमाणपत्र मांगा जाता है।

हम इस समय समाज की दुर्दशा देख रहे हैं वह असत्य मार्ग पर चलने के कारण ही है।

सत्य एक ऐसा शस्त्र है जिससे सुकर्म किये जा सकते हैं।

जिन लोगों को असत्य मार्ग सहज लगता है उन्हें यह समझाना मुश्किल है पर तत्व ज्ञानी जाते हैं कि क्षणिक सम्मान से कुछ नहीं होता इसलिये वह सत्य के प्रचार में लगे रहते है और कालांतर में इतिहास उनको अपने पृष्ठों में उनका नाम समेट लेता है।

इन्हें भी पढ़ें 👇
  1. Ekpadasana yoga एकपादासन करने की विधि और सावधानी जाने
  2. Sunburn तेज़ धूप से अपनी त्वचा को सुरक्षित रखें सनबर्न का इलाज
  3. Body odour पसीने और शरीर की बदबू दूर करने के घरेलू उपाय
  4. Bhaagwat puraan भागवत पुराण परिचय, सृष्टि-उत्पत्ति और वर्णन
  5. Makhana रोज खाएं मखाना और बीमारियों कई बीमारियों से बचें
  6. Gomukhasana yoga गोमुखासन करने की विधि और लाभ
  7. Neem नीम के औषधीय फायदे और सावधानी neem remidies
  8. Agni puran से बुद्ध और कल्कि अवतार भगवान् विष्णु के अवतार कि कथा
  9. Natarajasana yoga karne ka tarika or savdhani
  10. Tulsi के 140 आयुर्वेदिक औषधीय लाभ जो रखे आपको स्वस्थ
  11. Historical places of India भारत के ऐतिहासिक स्थल
  12. Papita पपीता के आयुर्वेदिक औषधियां फायदे
  13. Vedas हिन्दू वेदों के प्रकार, इतिहास, वेद-सार और भी बहोत कुछ जानें
  14. Giloy ke fayde स्वाइन फ्लू, डेंगू और चिकनगुनिया के लिए रामबाण है
  15. Egg peel अंडे के छिलके से पाए खूबसूरत त्वचा जाने इस्तेमाल का तरीका
  16. Vrschikasana yoga करने का सही तरीका लाभ और सावधानी
  17. Chaval ke face pack se 2 din me hoga rang gora
  18. Aromatherapy बेहतर यौन जीवन के लिए अरोमाथेरेपी
  19. Hindu dharmgranth and culture हिन्दू धर्मग्रन्थ और हिन्दू संस्कृति
  20. Hindu dharm हिंदू धर्म का इतिहास और मुख्य सिद्धांत
  21. Til khane ke fayde तिल खाने के औषधीय लाभ
  22. Virasana yoga वीरासन योग करने का तरीका और लाभ
  23. Bakasana yoga बकासन करने का तरीका और लाभ
  24. Sadness उदासी दूर करना चाहते हैं, तो इन 5 चीजों से बनाएं दूरी
  25. Pudina ke fayde पुदीने के फायदे और इसके औषधीय गुण
  26. Weight loss घर बैठे करें वजन घटाने वाले व्यायाम
  27. Body banaye keval 30 din me or rahe fit complete guide
  28. Healthy upvas कैसे करें हेल्दी उपवास जानिए 10 डाइट टिप्स
  29.  Kurmasana yoga कुर्मासन का लाभ और विधि
  30. Alcohol massage अल्कोहल मसाज के 5 बेहतरीन फायदे

Rajji Nagarkoti

My name is Abhijeet Nagarkoti . I am 31 years old. I am from dehradun, uttrakhand india . I study mechanical. I can speak three languages, Hindi, Nepali, and English. I like to write blogs and article

Leave a Reply