Piles Fistula बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार
बवासीर के रोग का इलाज करने से पहले यह जानना आवश्यक है कि इसके होने का क्या कारण होता है? तथा इसके लक्षण क्या है?

Piles Fistula बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

बवासीर और भगन्दर के बारे में जाने:-

Piles fistula बवासीर के रोग का इलाज करने से पहले यह जानना आवश्यक है कि इसके होने का क्या कारण होता है? तथा इसके लक्षण क्या है?

वैसे प्राचीनकाल से ही देखा जाए तो सभ्यता के विकास के साथ-साथ बहुत सारे असाध्य रोग भी पैदा हुए हैं।

इनमें से कुछ रोगों का इलाज तो आसान है लेकिन कुछ रोग ऐसे भी हैं जिनका इलाज बहुत मुश्किल से होता है।

इन रोगों में से एक रोग बवासीर भी है।

इस रोग को हेमोरहोयड्स भी कहते हैं।

बवासीर को उर्दू में अर्श कहते हैं।

यह रोग 2 प्रकार का होता है। बवासीर 2 प्रकार की होती हैं। एक भीतरी बवासीर तथा दूसरी बाहरी बवासीर।

भीतरी बवासीर:- भीतरी बवासीर हमेशा धमनियों और शिराओं के समूह को प्रभावित करती है।

फैले हुए रक्त को ले जाने वाली नसें जमा होकर रक्त की मात्रा के आधार पर फैलती हैं तथा सिकुड़ती है।

इन भीतरी मस्सों से पीड़ित रोगी वहां खुजली और गर्मी की शिकायत करते हैं।

यह बवासीर रोगी को तब होती है जब वह मलत्याग करते समय अधिक जोर लगाता है।

बच्चे को जन्म देते समय यदि स्त्री अधिक जोर लगाती है तब भी उसे यह बवासीर हो जाती है।

इस रोग से पीड़ित रोगी अधिकतर कब्ज से पीड़ित रहते हैं।

Piles Fistula बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

भीतरी बवासीर के लक्षण:- इस बवासीर के कारण मलत्याग करते समय रोगी को बहुत तेज दर्द होता है।

इस बवासीर के कारण मस्सों से खून निकलने लगता है।

बाहरी बवासीर:- बाहरी बवासीर मलद्वार के बाहरी किनारे पर होती है।

इस बवासीर के अनेक आकार होते हैं तथा इस बवासीर के मस्से एक या कई सारे हो सकते हैं।

इस बवासीर के मस्सों के गुच्छे भी हो सकते हैं।

  1. मांसपेशियों में खिंचाव, Strain in the muscles शरीर के ढांचे संबंधी रोगों के आयुर्वेदिक इलाज
  2. मेडिटेशन करने का तरीका और इसके कुछ फायदे
  3. कान में दर्द, कान के संक्रमण और कम सुनाई देने के आयुर्वेदिक इलाज
  4. बुढापा रोकने के सरल आयुर्वेदिक घरेलू उपाय
  5. मुंह की दुर्गंध या बुरी सांस को रोके आयुर्वेदिक घरेलू इलाज
  6. टॉन्सिल वृद्धि और टॉन्सिल प्रदाह के घरेलू आयुर्वेदिक उपाय
  7. बालों के गिरना और सफेद होने के घरेलू आयुर्वेदिक इलाज (Hair falling & hair greying)
  8. एलोवेरा और चॉकलेट जो रखेगी आपकी सेहत और ड्यूटी बरकरार
  9. हींग और अजवाइन के फायदे जो करें रोगों को दूर
  10. बॉडी बनाने के घरेलू उपाय और बेहतरीन डाइट टिप्स

बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

बाहरी बवासीर और अन्दरूनी बवासीर दोनों प्रकार के बवासीर रोग के लक्षण निम्नलिखित हैं-

बाहरी बवासीर के लक्षण:– यह बवासीर तब होती है जब मलद्वार के पास की कोई नस फैल जाती है तथा फैलकर फट जाती है।

फूली हुई नस के तंतु सूज जाते हैं।

नस की कमजोर दीवारों से खून निकलकर जम जाता है तथा कठोर हो जाता है।

रोगी को गुदा के पास दबाव और सूजन महसूस होती है और थोड़ी देर के लिए तेज दर्द होने लगता है।

अन्दरूनी बवासीर में गुदाद्वार के अन्दर सूजन हो जाती है तथा यह मलत्याग करते समय गुदाद्वार के बाहर आ जाती है

और इसमें जलन तथा दर्द होने लगता है।

बाहरी बवासीर में गुदाद्वार के बाहर की ओर के मस्से मोटे-मोटे दानों जैसे हो जाते हैं।

Piles Fistula बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

जिनमें से रक्त का स्राव और दर्द होता रहता है तथा जलन की अवस्था भी बनी रहती है।

इस रोग के कारण रोगी व्यक्ति को बैठने में परेशानी होने लगती है जिसके कारण से रोगी ठीक से बैठ नहीं पाता है।

बवासीर 2 प्रकार की होती है एक खूनी तथा दूसरी बिना खून की।

एक बवासीर में तो मस्सों में से खून निकलता है

और यह खून निकलना तब और तेज हो जाता है जब रोगी व्यक्ति शौच करता है।

इस रोग के कारण व्यक्ति को मलत्याग करने में बहुत अधिक कष्टों का सामना करना पड़ता है।

बवासीर, भगन्दर, और नासूर भगन्दर ( Piles, Fissure) के घरेलू उपचार
बवासीर, भगन्दर, और नासूर भगन्दर ( Piles, Fissure) के घरेलू उपचार

Piles Fistula बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

दोनों प्रकार की बवासीर होने के कारण निम्नलिखित हैं-

दोनों बवासीर रोग होने का मुख्य कारण पेट में कब्ज बनना है।

50 से भी अधिक प्रतिशत व्यक्तियों को यह रोग कब्ज के कारण ही होता है।

इसलिए जरूरी है कि कब्ज होने को रोकने के उपायों को हमेशा अपने दिमाग में रखें।

कब्ज के कारण मलाशय की नसों के रक्त प्रवाह में बाधा पड़ती है जिसके कारण वहां की नसें कमजोर हो जाती हैं ।

और आंतों के नीचे के हिस्से में भोजन के अवशोषित अंश अथवा मल के दबाव से वहां की धमनियां चपटी हो जाती हैं ।

तथा झिल्लियां फैल जाती हैं।

जिसके कारण व्यक्ति को बवासीर हो जाती है।

  1. गोरी स्किन सुंदर त्वचा पाने के आयुर्वेदिक घरेलू उपाय
  2. नवजात -newborn baby का कैसे करें देखभाल
  3. ठंड के मौसम की 10 बीमारियों के उपचार
  4. याददाश्त कमजोर तथा भूलने की बीमारी के घरेलू उपचार
  5. महिलाओं में माहवारी और अनियमित मासिक धर्म का इलाज
  6. गर्भावस्था मैं 4 से 9 महीनों के दौरान कौन से आहार लेने जरूरी है
  7. लीवर की समस्याओं को जड़ से दूर करें बस इन 3 योग आसन से
  8. सेक्स शक्ति को बढ़ाने के 25 घरेलू उपाय
  9. स्टैमिना और एनर्जी बढ़ाने के 10 आयुर्वेदिक घरेलू नुस्खे।
  10. पित्ताशय तथा गुर्दे और मूत्र स्थान में पथरी के घरेलू आयुर्वेदिक इलाज।

यह रोग व्यक्ति को तब भी हो सकता है जब वह शौच के वेग को किसी प्रकार से रोकता है।

भोजन में आवश्यक पोषक तत्वों की कमी होने के कारण बिना पचा हुआ भोजन मलाशय में इकट्ठा हो जाता है और निकलता नहीं है,

जिसके कारण मलाशय की नसों पर दबाव पड़ने लगता है और व्यक्ति को बवासीर हो जाती है।

शौच करने के बाद मलद्वार को गर्म पानी से धोने से भी बवासीर रोग हो सकता है।

तेज मसालेदार, अति गरिष्ठ तथा उत्तेजक भोजन करने के कारण भी बवासीर रोग हो सकता है।

दवाईयों का अधिक सेवन करने के कारण भी यह रोग व्यक्ति को हो सकता है।

रात के समय में अधिक जगने के कारण भी व्यक्ति को बवासीर का रोग हो सकता है।

दोनों प्रकार की बवासीर रोग से पीड़ित व्यक्ति का प्राकृतिक

Piles Fistula बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

चिकित्सा से उपचार– बवासीर रोग का इलाज करने के लिए रोगी को सबसे पहले 2 दिन तक रसाहार चीजों का सेवन करके उपवास रखना चाहिए।

इसके बाद 2 सप्ताह तक बिना पके हुआ भोजन का सेवन करके उपवास रखना चाहिए।

रोगी व्यक्ति को सुबह तथा शाम के समय में 2 भिगोई हुई अंजीर खानी चाहिए और इसका पानी पीना चाहिए।

फिर इसके बाद त्रिफला का चूर्ण लेना चाहिए।

ऐसा कुछ दिनों तक करने से रोगी का बवासीर रोग जल्दी ही ठीक हो जाता है।

2 चम्मच काला तिल चबाकर ठंडे पानी के साथ प्रतिदिन सेवन करने से पुराना से पुराना बवासीर भी कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है।

कुछ ही दिनों तक प्रतिदिन गुड़ में बेलगिरी मिलाकर खाने से रोगी व्यक्ति को बहुत अधिक लाभ मिलता है और बवासीर रोग ठीक हो जाता है।

Piles Fistula बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

Is रोग से पीड़ित रोगी को कभी भी चाय, कॉफी, मिर्च मसाले आदि गर्म तथा उत्तेजक चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए।

इस रोग से पीड़ित रोगी को रात को सोते समय प्रतिदिन गुदा के मस्सों पर सरसों का तेल लगाना चाहिए।

फिर इसके बाद अपने पेड़ू पर मिट्टी की पट्टी करनी चाहिए और इसके बाद एनिमा लेना चाहिए तथा मस्सों पर मिट्टी का गोला रखना चाहिए।

यदि इस रोग से पीड़ित रोगी के मस्सों की सूजन बढ़ गई हो या फिर मस्सों से खून अधिक निकल रहा है तो मिट्टी की पट्टी को बर्फ से ठंडा करके फिर इसको मस्सों पर 10 मिनट तक रखकर इस पर गर्म सेंक देना चाहिए।

इसके बाद इन पर मिट्टी की पट्टी रखने से कुछ ही दिनों में मस्से मुरझाकर नष्ट हो जाते हैं और उसका यह रोग जल्दी ही ठीक हो जाता है।

Piles Fistula बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

इस रोग से पीड़ित रोगी को कटिस्नान तथा शाम के समय में मेहनस्नान करना चाहिए तथा इसके साथ-साथ प्राकृतिक चिकित्सा के अनुसार इलाज कराना चाहिए।

जिसके परिणाम स्वरूप कुछ ही दिनों के बाद रोगी का बवासीर रोग ठीक हो जाता है।

  1. थायराइड रोग के कारण लक्षण व आयुर्वेदिक घरेलू उपाय
  2. सिर की खुश्की जुएं और रूसी खत्म करने के आयुर्वेदिक घरेलू इलाज
  3. Height बढ़ाएं किसी भी उम्र में तेजी से कद बढाने के तरीके किया है।
  4. चेहरे पर चमक लाने के 7 आयुर्वेदिक घरेलू उपाय
  5. होम्योपैथी आयुर्वेद एलोपैथी, के लाभ ओर इनमें से कौन सा है बेहतर?
  6. कैंसर क्या है इसके लक्षण और उपचार क्या है।
  7. वजन बढ़ाने के घरेलू औरआयुर्वेदिक उपाय क्या है।
  8. Pancreatiti’s अग्नाशयशोथ के लक्षण कारण और घरेलू इलाज क्या है?
  9. निमोनिया के लक्षण कारण और घरेलू उपचार क्या है?
  10. घमोरियां के कारण और उनके घरेलू इलाज क्या है?

बवासीर को ठीक करने के लिए कुछ योग आशन:-

दोनों प्रकार की बवासीर को ठीक करने के लिए कई प्रकार के आसन है जिनको नियमपूर्वक करने से कुछ ही दिनों के बाद रोगी का रोग ठीक हो जाता है।

Dono प्रकार के बवासीर रोग को ठीक करने के लिए कुछ उपयोगी आसन हैं

जैसे- नाड़ीशोधन, कपालभांति, भुजंगासन, प्राणायाम, पवनमुक्तासन, शलभासन, सुप्तवज्रासन, धनुरासन, शवासन, सर्वांगासन, मत्स्यासन, हलासन, चक्रासन आदि।

रोगी के बवासीर रोग में होने वाले दर्द तथा जलन को कम करने के लिए वैसलीन में बराबर मात्रा में कपूर मिलाकर बवासीर के मस्सों पर लगाने से बहुत अधिक लाभ मिलता है।

यदि बवासीर के रोगी के मस्सों से खून नहीं आ रहा हो तो उसे गरम पानी से कटिस्नान कराना चाहिए और यदि मस्सों से खून निकल रहा हो तो ठंडे पानी से कटिस्नान करना चाहिए।

सुबह, शाम या फिर रात के समय में रोगी को ठंडे पानी से स्नान कराना चाहिए और फिर प्राकृतिक चिकित्सा के अनुसार उसका इलाज कराना चाहिए।

Piles Fistula बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

रोगी व्यक्ति को कम से कम दिन में एक बार ठंडे पानी में कपड़ा भिगोकर लंगोट बांधनी चाहिए और फिर इस पर ठंडे पानी की फुहार देनी चाहिए और फिर प्राकृतिक चिकित्सा के अनुसार इलाज कराना चाहिए।

रात को 100 ग्राम किशमिश पानी में भिगो दें और इसे सुबह के समय में उसी पानी में मसल दें।

इस पानी को रोजाना सेवन करने से कुछ ही दिनों में बवासीर रोग ठीक हो जाता है।

Piles Fistula बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

इस रोग से पीड़ित रोगी को रात को सोते समय केले खाने चाहिए इससे रोगी को बहुत अधिक लाभ मिलता है और धीरे-धीरे बवासीर रोग ठीक होने लगता है।

रोगी व्यक्ति को अपने भोजन में चुकन्दर, जिमीकन्द, फूल गोभी और हरी सब्जियों का बहुत अधिक उपयोग करना चाहिए।

दोनों प्रकार की बवासीर रोग से पीड़ित रोगी को सुबह तथा शाम को 1 गिलास मट्ठे में 1 चम्मच भुना जीरा पाउडर डालकर सेवन करना चाहिए।

आधा गिलास पानी में 1-1 चम्मच जीरा, सौंफ व धनिए के बीज डालकर उबालें ।

जब यह पानी उबलते-उबलते आधा रह जाए तो इसे छान लें।

फिर इस मिश्रण में 1 चम्मच देशी घी मिलाएं और इसको प्रतिदिन 2 बार सेवन करें।

इससे बवासीर रोग ठीक हो जाता है।

Piles Fistula बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

दोनों प्रकार के बवासीर रोग से पीड़ित रोगी के रोग को ठीक करने के लिए सबसे पहले इस रोग के होने के कारणों को खत्म करना चाहिए फिर इसका इलाज प्राकृतिक चिकित्सा के अनुसार कराना चाहिए।

रोगी व्यक्ति को यदि पेट में कब्ज बन रही हो तो इसका इलाज सही ढंग से कराना चाहिए क्योंकि बवासीर रोग होने का सबसे बड़ा कारण कब्ज होता है।

Rogi व्यक्ति को प्रतिदिन सुबह-शाम 15 से 30 मिनट तक बवासीर के मस्सों पर भाप देनी चाहिए तथा इसके बाद कटिस्नान करना चाहिए इससे रोगी व्यक्ति को बहुत अधिक लाभ मिलता है।

इस रोग से पीड़ित रोगी को प्रतिदिन सुबह तथा शाम के समय में स्नान करना चाहिए जिससे रोगी व्यक्ति को बहुत अधिक लाभ मिलता है

Piles Fistula बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

और इसके साथ-साथ प्राकृतिक नियमों का पालन करना चाहिए तभी यह रोग ठीक हो सकता है।

इस प्रकार से रोगी का इलाज प्राकृतिक चिकित्सा से करने से कुछ ही दिनों में उसका बवासीर रोग ठीक हो जाता है।

भगन्दर (Fistula)
परिचय:- जब किसी व्यक्ति को यह रोग हो जाता है तो उसके गुदाद्वार के पास सूजन होकर फोड़ा बन जाता है जिसको भगन्दर कहते हैं।

यह फोड़ा कुछ दिनों में फूट जाता है और उसमें से मवाद तथा दूषित रक्त निकलने लगता है।

यह फोड़ा कभी-कभी बहुत चौड़ा तथा गहरा होता है।

इस फोड़े के कारण रोगी व्यक्ति को गुदाद्वार के पास बहुत तेज दर्द होता है।

Piles Fistula बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

भगन्दर रोग के लक्षण:- इस रोग से पीड़ित रोगी के मलद्वार के पास फोड़ा हो जाता है जिसके फूटने पर खून निकलने लगता है तथा रोगी को जलन और दर्द महसूस होता है।

Fistula रोग होने का कारण:- भगन्दर रोग होने का सबसे प्रमुख कारण यह है कि जब किसी व्यक्ति के मलद्वार के पास कोई फोड़ा बन जाता है और उसमें जब कई मुंह बन जाते हैं और रोगी व्यक्ति इस फोड़े से छेड़छाड़ करता है तो उसे यह रोग हो जाता है।

अधिक चटपटी चीजें खाने के कारण मलद्वार के पास फोड़ा हो जाता है जो आगे बढ़कर भगन्दर का रूप ले लेता है।

बवासीर, भगन्दर, और नासूर भगन्दर ( Piles, Fissure) के घरेलू उपचार
बवासीर, भगन्दर, और नासूर भगन्दर ( Piles, Fissure) के घरेलू उपचार
Piles Fistula बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

भगन्दर रोग का प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार:-

  1. दिल के सभी रोगों का आयुर्वेदिक इलाज
  2. पेट के सभी रोगों के कारन और आसान घरेलु आयुर्वेदिक उपचार
  3. भारत का ऐशा कामियाब मिशन जिसने चौंका दिया पूरी दुनिया को
  4. भारतीय सेना के कुछ रोचक तथ्य जो हमें भारतीय होने पर गर्व करते हैं
  5. Constipation के घरेलू इलाज
  6. जाने आयुर्वेद के नियम अगर जिना है सुवास्थ जीवन
  7. चीनी किशोर जिसने बेच दी किडनी iPhone के लये।

भगन्दर रोग का उपचार करने के लिए रोगी व्यक्ति को कम से कम 2 सप्ताह तक उपवास रखना चाहिए।

उपवास के समय में रोगी व्यक्ति को फलों का रस पीना चाहिए और गुनगुने पानी से एनिमा क्रिया करनी चाहिए ताकि पेट साफ होकर कब्ज बनना रुक सके।

Fistula रोग से पीड़ित रोगी को पीले रंग की बोतल तथा हरे रंग की बोतल का सूर्यतप्त तेल बराबर मात्रा में मिला लेना चाहिए।

इस तेल को 25 मिलीलीटर की मात्रा में दिन में 8 बार सेवन करने से यह रोग कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है।

Piles Fistula बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

भगन्दर रोग में रोगी व्यक्ति के गुदाद्वार के पास का फोड़ा जब तक पक न जाए तब तक उस पर प्रतिदिन 2-3 बार गुनगुना पानी छिड़कना चाहिए या फिर 10 मिनट तक 2-3 बार कम से कम 2 घण्टे तक बदल-बदल कर गर्म मिट्टी का लेप करना चाहिए।

Fistula रोग से पीड़ित रोगी को प्रतिदिन गुनगुने पानी से एनिमा क्रिया करानी चाहिए ताकि उसका पेट साफ हो सके तथा दूषित द्रव्य उसके शरीर से बाहर हो सके।

नींबू के रस को पानी में मिलाकर उस पानी से भगन्दर के फोड़े को धोना चाहिए।

Piles Fistula बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

इस प्रकार से प्रतिदिन उपचार करने से यह रोग कुछ ही समय में ठीक हो जाता है।

भगन्दर के फोड़े पर प्रतिदिन हरा प्रकाश देकर नीला प्रकाश देना चाहिए।

जिसके फलस्वरूप यह रोग कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है।

नारियल के तेल में नींबू का रस मिलाकर भगन्दर के फोड़े पर लगाने से यह रोग कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है।

भगन्दर रोग से पीड़ित व्यक्ति को सुबह के समय में नीम की 4-5 पत्तियां चबानी चाहिए।

इसके फलस्वरूप भगन्दर रोग जल्दी ही ठीक हो जाता है।

नासूर भगन्दर के बारे में जाने:- (Fissure)

परिचय:- भगन्दर रोग से पीड़ित रोगी के मलद्वार की त्वचा में दरार पड़ जाती है और यह दरार वहां की मांसपेशियों की गहराई तक पहुंच जाती है।

जिसके कारण से रोगी को मल त्याग करते समय बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

रोगी जब मल त्याग करता है तो उसे दर्द तथा जलन महसूस होती है।

भगन्दर रोग के लक्षण- इस रोग से पीड़ित रोगी को गुदा के आसपास दर्द होता है तथा शौच करते समय उसे बहुत तेज दर्द होता है।

Fistula रोग से पीड़ित रोगी को गुदा में से कभी-कभी खून भी आ जाता है तथा उसके गुदा के चारों तरफ खुजली भी होने लगती है।

भगन्दर रोग होने का कारण- भगन्दर रोग के होने का सबसे प्रमुख कारण गलत तरीके का भोजन करना है

जिसके कारण से रोगी को कब्ज की शिकायत हो जाती है और कब्ज के कारण रोगी को सख्त मल आता है

जो गुदा के मुंह की रचना एवं झिल्ली को तोड़ देता है जिसके कारण से मलद्वार के आस-पास दरारे पड़ जाती हैं।

  1. अब पैसे कमाए घर बैठे इन 5 ऑनलाइन तरीकों से
  2. जोड़ों के दर्द का आसान घरेलू आयुर्वेदिक उपचार कैसे करें
  3. 1947 के बाद से कांग्रेस पार्टी द्वारा सबसे बड़ा, सबसे हानिकारक दोष क्या है?
  4. भारत में आर एस एस के 10 महत्वपूर्ण योगदान
  5. Home remedies for diabetes
  6. बालों के झड़ने का इलाज, home remedies
  7. किडनी के सभी बीमारियों का आयुर्वेदिक इलाज
Piles Fistula बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार
बवासीर, भगन्दर, और नासूर भगन्दर ( Piles, Fissure) के घरेलू उपचार
बवासीर, भगन्दर, और नासूर भगन्दर ( Piles, Fissure) के घरेलू उपचार
भगन्दर रोग का प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार-

Fistula रोग को ठीक करने के लिए सबसे पहले रोगी को अपने कब्ज के रोग को दूर करना चाहिए ताकि उसका मल नियमित रूप से और नर्म आए।

भगन्दर रोग से पीड़ित रोगी को 4-5 दिनों तक फलों तथा फलों के रस का सेवन करना चाहिए।

फलों में मौसमी, संतरा, अनन्नास, गाजर, लौकी, सफेद पेठा, पपीता, सेब, अमरूद तथा अंगूर आदि का सेवन करना चाहिए।

फिर इसके बाद रोगी को सामान्य तथा

संतुलित भोजन करना चाहिए जिसमें चोकर समेत आटे की रोटी, छिलके समेत दालें, अंजीर, खजूर तथा हरी पत्तेदार सब्जियां आदि शामिल होनी चाहिए।

इससे यह रोग कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है।

भगन्दर रोग से पीड़ित रोगी को कभी भी चीनी तथा चीनी निर्मित (बनाई गई) खाद्य पदार्थ और तली-भुनी चीजें बिलकुल भी नहीं खानी चाहिए।

Fistula रोग से पीड़ित रोग को अधिक से अधिक पानी पीना चाहिए तथा प्राकृतिक चिकित्सा से अपना उपचार कराना चाहिए।

Piles Fistula बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

भगन्दर रोग को ठीक करने के लिए रोगी व्यक्ति को नीम के पानी से अपने गुदा द्वार को धोना चाहिए तथा प्रतिदिन गरम पानी से एनिमा क्रिया करनी चाहिए।

इसके साथ-साथ रोगी को अपने पेट तथा गुदा पर मिट्टी की पट्टी तथा सूखा घर्षण करना चाहिए।

जिसके फलस्वरूप यह रोग कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है।

Fistula रोग से पीड़ित रोगी को सूर्यतप्त हरी बोतल का जल दवाई की मात्रा के अनुसार दिन में 6 बार पीना चाहिए।

भगन्दर रोग को ठीक करने के लिए कई प्रकार के आसन तथा योग क्रियाएं हैं जिनको करने से यह रोग कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है,

ये आसन तथा योग क्रियाएं इस प्रकार हैं- योगमुद्रासन, उत्तानपादासन, सुप्त पवनमुक्तासन, वज्रासन, भुजंगासन, शलभासन, शवासन, योगमुद्रा तथा नियमित रूप से व्यायाम।

Piles Fistula बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार
  1. stress – तनाव से कैसे बचें और उसका घरेलू उपचार क्या है।
  2. viral fever – वायरल बुखार के कारण लक्षण और घरेलू उपचार क्या है
  3. ( Migraine ) माइग्रेन के कारण लक्षण और आयुर्वेदिक घरेलू उपचार क्या है ?
  4. दांतो के दर्द के कारण लक्षण और घरेलू उपचार क्या है?
  5. Back pain स्लिप डिस्क या कमर दर्द के कारण वह घरेलू आयुर्वेदिक उपचार क्या है?
  6. ( Insomnia ) इनसोम्निया – अनिद्रा के कारण लक्षण और घरेलू उपचार क्या है?
  7. ( Mouth ulcer ) मुंह के छालों के लक्षण कारण व आयुर्वेदिक घरेलू नुस्खे
  8. ( Obesity ) मोटापे कम करने के घरेलू वह आयुर्वेदिक नुस्खे
  9. ( Anemia )खून की कमी के कारण, लक्षण ओर घरेलू आयुर्वेदिक इलाज
  10. ( high blood pressure ) उच्च रक्तचाप के लक्षण, कारण, वह घरेलू उपचार
  11. Eye infection- आंखो का इंफेक्शन हानिकारक शुक्ष्म जीवाणु बैक्टीरिया ओर वाइरस के कारण होता है।
  12. ( Diarrhea ) के कारण, लक्षण, वह आयुर्वेदिक इलाज।
  13. ( Peptic ulcer ) पेट के अल्सर का घरेलू वह आयुर्वेदिक इलाज
  14. Chikungunya बुखार का सबसे सरल और effective homopyethi वह घरेलू उपचार
  15. Gangrene – किसी अंग के सर्ड जाने का सब से असरदार आयुर्वेदिक इलाज
Piles Fistula बवासीर भगंदर और नासूर भगंदर के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

Rajji Nagarkoti

My name is Abhijeet Nagarkoti . I am 31 years old. I am from dehradun, uttrakhand india . I study mechanical. I can speak three languages, Hindi, Nepali, and English. I like to write blogs and article

This Post Has 69 Comments

  1. Stepwam

    Comprar Viagra Sevilla [url=http://apcialisle.com/#]Buy Cialis[/url] Cephalexin For Toddlers Buy Cialis Viagra Zollfrei

  2. Hiya! I know this is kinda off topic however , I’d figured I’d ask.
    Would you be interested in trading links or maybe guest writing a blog article or vice-versa?
    My site goes over a lot of the same topics
    as yours and I think we could greatly benefit from each other.
    If you are interested feel free to send me an e-mail.
    I look forward to hearing from you! Wonderful blog by the way!

  3. Today, I went to the beach with my children. I found a sea shell and gave
    it to my 4 year old daughter and said “You can hear the ocean if you put this to your ear.” She
    put the shell to her ear and screamed. There was a hermit crab inside and it pinched her
    ear. She never wants to go back! LoL I know this is
    completely off topic but I had to tell someone!

  4. You have made some decent points there. I checked on the
    web for more info about the issue and found most people will go along with your views on this web site.

  5. cialis 20mg

    sometimes unit [url=http://cialisles.com/#]cialis 20mg[/url] hard steak altogether thing
    cialis 20mg generic soon tip cialis 20mg almost winter http://cialisles.com/

  6. JanInigue

    Medicamento Cialis Para Sirve [url=https://viacialisns.com/#]acquistare cialis online[/url] Elidel Cialis Buy Super Viagra

  7. Woppile

    Do I Need A Perscription To Buy Viagra [url=https://viacialisns.com/]Cialis[/url] Buy Lasix Generic cialis online ordering Priligy Dapoxetin Test

  8. Theplay

    Baclofene Appetit [url=https://cheapcialisll.com/]Cheap Cialis[/url] Online Cash On Delivery Fluoxetine Overseas Cheap Cialis Amoxicillin Side Effect Baby Hyper

  9. acubretub

    Stendra No Prescription [url=https://bbuycialisss.com/]Cialis[/url] Filitra Cialis Brand Cialis No Prescription

  10. Willie

    Its like you read my mind! You seem to know so much about this, like
    you wrote the book in it or something. I think that
    you can do with a few pics to drive the message home
    a bit, but instead of that, this is great blog. A fantastic read.
    I will definitely be back.

  11. Larry

    Howdy! I simply wish to give you a huge thumbs up for your great info you have got right here
    on this post. I’ll be coming back to your site for more soon.

  12. Nicholas

    Heya! I know this is sort of off-topic however I needed to ask.
    Does running a well-established website like yours take a large amount
    of work? I am completely new to writing a blog however I do write in my journal everyday.
    I’d like to start a blog so I can share my own experience and
    thoughts online. Please let me know if you have any kind of recommendations or tips for new
    aspiring bloggers. Thankyou!

  13. Dylan

    Appreciate this post. Will try it out.

  14. Christopher

    Hello! This is my 1st comment here so I just wanted to give a quick shout out and tell
    you I genuinely enjoy reading through your articles. Can you
    suggest any other blogs/websites/forums that go over the same topics?

    Thanks!

  15. Johnny

    I was suggested this website by my cousin. I am not sure whether this post is written by him as
    no one else know such detailed about my difficulty. You’re incredible!
    Thanks!

  16. Brian

    I just like the valuable information you supply on your articles.
    I’ll bookmark your weblog and test once more right here regularly.
    I am quite certain I’ll be informed plenty of new stuff proper here!
    Good luck for the following!

  17. Jacob

    I simply could not go away your site before suggesting that I extremely loved the
    usual information an individual provide to your guests?
    Is going to be back incessantly to investigate cross-check
    new posts

  18. Johnny

    Thanks a bunch for sharing this with all folks you really recognise what you’re speaking about!
    Bookmarked. Kindly also seek advice from my site =).
    We may have a link change arrangement between us

  19. Julia

    Great beat ! I would like to apprentice at the same time
    as you amend your web site, how could i subscribe for a weblog web site?
    The account helped me a applicable deal. I were tiny bit familiar
    of this your broadcast provided brilliant transparent concept

  20. Robert

    I have been exploring for a little for any high quality articles or
    weblog posts on this kind of space . Exploring
    in Yahoo I finally stumbled upon this site.
    Studying this info So i am glad to express that I have an incredibly
    good uncanny feeling I discovered just what I needed.
    I such a lot indubitably will make certain to do not disregard this website and give it a
    glance regularly.

  21. Christian

    I’ll immediately seize your rss as I can’t to find your email subscription hyperlink or e-newsletter
    service. Do you’ve any? Kindly let me know so that I may subscribe.
    Thanks.

  22. Jesse

    Right here is the right webpage for anybody who would like to find out about
    this topic. You understand so much its almost tough to argue with
    you (not that I really would want to…HaHa). You definitely
    put a brand new spin on a topic which has been written about for decades.
    Wonderful stuff, just excellent!

  23. Sean

    Thanks to my father who told me on the topic of this webpage, this
    website is truly amazing.

  24. Bobby

    Thanks for another wonderful article. Where else could anybody get that kind
    of info in such an ideal method of writing? I’ve a presentation subsequent week, and I’m
    on the look for such info.

  25. Arthur

    What’s up to every one, it’s genuinely a good for me to go to see this web
    site, it includes useful Information.

  26. Robert

    Asking questions are genuinely nice thing
    if you are not understanding anything totally, but this paragraph gives fastidious understanding even.

  27. Roger

    This paragraph is actually a fastidious one it assists new
    web users, who are wishing in favor of blogging.

  28. Kathryn

    Excellent post. I used to be checking continuously this blog and I’m impressed!
    Extremely useful information specially the ultimate phase 🙂 I care for
    such info a lot. I was seeking this particular information for a very
    lengthy time. Thanks and good luck.

  29. Hello my family member! I wish to say that this post is amazing, great written and include almost all vital infos.
    I’d like to look more posts like this .

  30. Nicholas

    I am no longer certain the place you are getting your information, however good topic.
    I must spend some time studying much more or working out more.
    Thanks for excellent information I was searching for this information for my
    mission.

  31. taxicudraz.com

    Very energetic blog, I liked that bit. Will there be a part 2?

  32. bahisturkiye.top

    Your style is very unique in comparison to other folks I’ve
    read stuff from. Thanks for posting when you have the opportunity, Guess
    I will just book mark this site.

  33. Justin

    Fantastic beat ! I wish to apprentice while you amend your site,
    how could i subscribe for a blog web site? The account aided me a acceptable deal.
    I had been tiny bit acquainted of this your broadcast provided bright clear concept

Leave a Reply