Bhaagwat puraan भागवत पुराण परिचय,  सृष्टि-उत्पत्ति और वर्णन
भागवत पुराण हिन्दुओं के अट्ठारह पुराणों में से एक है। इसे श्रीमद्भागवतम् या केवल भागवतम् भी कहते हैं। इसका मुख्य वर्ण्य विषय भक्ति योग है, जिसमे कृष्ण को सभी देवों का देव या स्वयं भगवान के रूप में चित्रित किया गया है।

Bhaagwat puraan भागवत पुराण परिचय, सृष्टि-उत्पत्ति और वर्णन

भागवत पुराण परिचय, सृष्टि-उत्पत्ति और वर्णन

Bhaagwat puraan – भागवत पुराण हिन्दुओं के अट्ठारह पुराणों में से एक है। इसे श्रीमद्भागवतम् या केवल भागवतम् भी कहते हैं। इसका मुख्य वर्ण्य विषय भक्ति योग है, जिसमे कृष्ण को सभी देवों का देव या स्वयं भगवान के रूप में चित्रित किया गया है। इसके अतिरिक्त इस पुराण में रस भाव की भक्ति का निरुपण भी किया गया है। परंपरागत तौर पर इस पुराण का रचयिता वेद व्यास को माना जाता हैं।

श्रीमदभागवत भारतीय वाङ्मय का मुकुटमणि है।

भगवान शुकदेव द्वारा महाराज परीक्षित को सुनाया गया भक्तिमार्ग का तो मानो सोपान ही है।

इसके प्रत्येक श्लोक में श्रीकृष्ण-प्रेमकी सुगन्धि है।

इसमें साधन-ज्ञान, सिद्धज्ञान, साधन-भक्ति,सिद्धा-भक्ति, मर्यादा-मार्ग, अनुग्रह-मार्ग, द्वैत, अद्वैत समन्वय के साथ प्रेरणादायी विविध उपाख्यानों का अद्भुत संग्रह है।

1भागवत पुराण में महर्षि सूत गोस्वामी उनके समक्ष प्रस्तुत साधुओं को एक कथा सुनाते हैं।

साधु लोग उनसे विष्णु के विभिन्न अवतारों के बारे में प्रश्न पूछते हैं।

सुत गोस्वामी कहते हैं कि यह कथा उन्होने एक दूसरे ऋषि शुकदेव से सुनी थी।

इसमें कुल बारह सकन्ध हैं।

प्रथम काण्ड में सभी अवतारों को सारांश रूप में वर्णन किया गया है।

Bhaagwat puraan भागवत पुराण परिचय, सृष्टि-उत्पत्ति और वर्णन

भागवत पुराण परिचय

अष्टादश पुराणों में भागवत नितांत महत्वपूर्ण तथा प्रख्यात पुराण है।

पुराणों की गणना में भागवत अष्टम पुराण के रूप में परिगृहीत किया जाता है (भागवत 12.7.23)।

आजकल ‘भागवत’ आख्या धारण करनेवाले दो पुराण उपलब्ध होते हैं :

(क) देवीभागवत तथा
(ख) श्रीमद्भागवत्

अत: इन दोनों में पुराण कोटि मे किसकी गणना अपेक्षित है ? इस प्रश्न का समाधान आवश्यक है।

विविध प्रकार से समीक्षा करने पर अंतत: यही प्रतीत होता है कि श्रीमद्भागवत को ही पुराण मानना चाहिए तथा देवीभागवत को उपपुराण की कोटि में रखना उचित है।

श्रीमद्भागवत देवीभागवत के स्वरूपनिर्देश के विषय में मौन है।

परंतु देवीभागवत ‘भागवत’ की गणना उपपुराणों के अंतर्गत करता है (1.3.16) तथा अपने आपको पुराणों के अंतर्गत।

देवीभागपंचम स्कंध में वर्णित भुवनकोश श्रीमद्भागवत के पंचम स्कंध में प्रस्तुत इस विषय का अक्षरश: अनुकरण करता है।

श्रीभागवत में भारतवर्ष की महिमा के प्रतिपादक आठो श्लोक (5.9.21-28) देवी भागवत में अक्षराश: उसी क्रम में उद्धृत हैं (8.11.22-29)।

दोनों के वर्णनों में अंतर इतना ही है कि श्रीमद्भागवत जहाँ वैज्ञानिक विषय के विवरण के निमित्त गद्य का नैसर्गिक माध्यम पकड़ता है।

वहाँ विशिष्टता के प्रदर्शनार्थ देवीभागवत पद्य के कृत्रिम माध्यम का प्रयोग करता है।

भागवत पुराण परिचय, सृष्टि-उत्पत्ति और वर्णन

श्रीमद्भागवत भक्तिरस तथा अध्यात्मज्ञान का समन्वय उपस्थित करता है।

भागवत निगमकल्पतरु का स्वयंफल माना जाता है जिसे नैष्ठिक ब्रह्मचारी तथा ब्रह्मज्ञानी महर्षि शुक ने अपनी मधुर वाणी से संयुक्त कर अमृतमय बना डाला है।

भागवत में 18 हजार श्लोक, 335 अध्याय तथा 12 स्कंध हैं।

इसके विभिन्न स्कंधों में विष्णु के लीलावतारों का वर्णन बड़ी सुकुमार भाषा में किया गया है।

परंतु भगवान्‌ कृष्ण की ललित लीलाओं का विशद विवरण प्रस्तुत करनेवाला दशम स्कंध भागवत का हृदय है।

अन्य पुराणों में, जैसे विष्णुपुराण (पंचम अंश), ब्रह्मवैवर्तं (कृष्णजन्म खंड) आदि में भी कृष्ण का चरित्‌ निबद्ध है, परंतु दशम स्कंध में लीलापुरुषोत्तम का चरित्‌ जितनी मधुर भाषा, कोमल पदविन्यास तथा भक्तिरस से आप्लुत होकर वर्णित है वह अद्वितीय है।

रासपंचाध्यायी (10.29-33) अध्यात्म तथा साहित्य उभय दृष्टियों से काव्यजगत्‌ में एक अनूठी वस्तु है।

वेणुगीत (10.21), गोपीगीत, (10.30), युगलगीत (10.35), भम्ररगीत (10.47) ने भागवत को काव्य के उदात्त स्तर पर पहुँचा दिया है।

Bhagavata Purana (Set of 2 Books)
Bhagavata Purana (Set of 2 Books)

Bhaagwat puraan भागवत पुराण परिचय, सृष्टि-उत्पत्ति और वर्णन

भागवत पुराण

इस कलिकाल में ‘श्रीमद्भागवत पुराण’ हिन्दू समाज का सर्वाधिक आदरणीय पुराण है।

यह वैष्णव सम्प्रदाय का प्रमुख ग्रन्थ है।

इस ग्रन्थ में वेदों, उपनिषदों तथा दर्शन शास्त्र के गूढ़ एवं रहस्यमय विषयों को अत्यन्त सरलता के साथ निरूपित किया गया है।

इसे भारतीय धर्म और संस्कृति का विश्वकोश कहना अधिक समीचीन होगा।

सैकड़ों वर्षों से यह पुराण हिन्दू समाज की धार्मिक, सामाजिक और लौकिक मर्यादाओं की स्थापना में महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा करता आ रहा हैं।

इस पुराण में सकाम कर्म, निष्काम कर्म, ज्ञान साधना, सिद्धि साधना, भक्ति, अनुग्रह, मर्यादा, द्वैत-अद्वैत, द्वैताद्वैत, निर्गुण-सगुण तथा व्यक्त-अव्यक्त रहस्यों का समन्वय उपलब्ध होता है।

‘श्रीमद्भागवत पुराण’ वर्णन की विशदता और उदात्त काव्य-रमणीयता से ओतप्रोत है।

यह विद्या का अक्षय भण्डार है।

यह पुराण सभी प्रकार के कल्याण देने वाला तथा त्रय ताप-आधिभौतिक, आधिदैविक और आध्यात्मिक आदि का शमन करता है।

ज्ञान, भक्ति और वैरागय का यह महान ग्रन्थ है।

इस पुराण में बारह स्कन्ध हैं, जिनमें विष्णु के अवतारों का ही वर्णन है।

नैमिषारण्य में शौनकादि ऋषियों की प्रार्थना पर लोमहर्षण के पुत्र उग्रश्रवा सूत जी ने इस पुराण के माध्यम से श्रीकृष्ण के चौबीस अवतारों की कथा कही है।

Bhaagwat puraan भागवत पुराण परिचय, सृष्टि-उत्पत्ति और वर्णन

इस पुराण में वर्णाश्रम-धर्म-व्यवस्था को पूरी मान्यता दी गई है तथा स्त्री, शूद्र और पतित व्यक्ति को वेद सुनने के अधिकार से वंचित किया गया है।

ब्राह्मणों को अधिक महत्त्व दिया गया है।

वैदिक काल में स्त्रियों और शूद्रों को वेद सुनने से इसलिए वंचित किया गया था कि उनके पास उन मन्त्रों को श्रवण करके अपनी स्मृति में सुरक्षित रखने का न तो समय था और न ही उनका बौद्धिक विकास इतना तीक्ष्ण था।

किन्तु बाद में वैदिक ऋषियों की इस भावना को समझे बिना ब्राह्मणों ने इसे रूढ़ बना दिया और एक प्रकार से वर्गभेद को जन्म दे डाला।

‘श्रीमद्भागवत पुराण’ में बार-बार श्रीकृष्ण के ईश्वरीय और अलौकिक रूप का ही वर्णन किया गया है।

पुराणों के लक्षणों में प्राय: पाँच विषयों का उल्लेख किया गया है, किन्तु इसमें दस विषयों-सर्ग-विसर्ग, स्थान, पोषण, ऊति, मन्वन्तर, ईशानुकथा, निरोध, मुक्ति और आश्रय का वर्णन प्राप्त होता है (दूसरे अध्याय में इन दस लक्षणों का विवेचन किया जा चुका है)।

यहाँ श्रीकृष्ण के गुणों का बखान करते हुए कहा गया है कि उनके भक्तों की शरण लेने से किरात् हूण, आन्ध्र, पुलिन्द, पुल्कस, आभीर, कंक, यवन और खस आदि तत्कालीन जातियाँ भी पवित्र हो जाती हैं।

Bhaagwat puraan भागवत पुराण परिचय,  सृष्टि-उत्पत्ति और वर्णन
Bhaagwat puraan भागवत पुराण परिचय, सृष्टि-उत्पत्ति और वर्णन
Bhaagwat puraan भागवत पुराण परिचय, सृष्टि-उत्पत्ति और वर्णन

भागवत पुराण सृष्टि-उत्पत्ति

सृष्टि-उत्पत्ति के सन्दर्भ में इस पुराण में कहा गया है- एकोऽहम्बहुस्यामि।

अर्थात् एक से बहुत होने की इच्छा के फलस्वरूप भगवान स्वयं अपनी माया से अपने स्वरूप में काल, कर्म और स्वभाव को स्वीकार कर लेते हैं।

तब काल से तीनों गुणों- सत्व, रज और तम में क्षोभ उत्पन्न होता है तथा स्वभाव उस क्षोभ को रूपान्तरित कर देता है।

तब कर्म गुणों के महत्त्व को जन्म देता है जो क्रमश: अहंकार, आकाश, वायु तेज, जल, पृथ्वी, मन, इन्द्रियाँ और सत्व में परिवर्तित हो जाते हैं।

इन सभी के परस्पर मिलने से व्यष्टि-समष्टि रूप पिंड और ब्रह्माण्ड की रचना होती है।

यह ब्रह्माण्ड रूपी अण्डां एक हज़ार वर्ष तक ऐसे ही पड़ा रहा।

फिर भगवान ने उसमें से सहस्त्र मुख और अंगों वाले विराट पुरुष को प्रकट किया।

उस विराट पुरुष के मुख से ब्राह्मण, भुजाओं से क्षत्रिओं से क्षत्रिय, जांघों से वैश्य और पैरों से शूद्र उत्पन्न हुए।

विराट पुरुष रूपी नर से उत्पन्न होने के कारण जल को ‘नार’ कहा गया।

यह नार ही बाद में ‘नारायण’ कहलाया। कुल दस प्रकार की सृष्टियाँ बताई गई हैं।

महत्तत्व, अहंकार, तन्मात्र, इन्दियाँ, इन्द्रियों के अधिष्ठाता देव ‘मन’ और अविद्या- ये छह प्राकृत सृष्टियाँ हैं।

इनके अलावा चार विकृत सृष्टियाँ हैं, जिनमें स्थावर वृक्ष, पशु-पक्षी, मनुष्य और देव आते हैं।

Bhaagwat puraan भागवत पुराण परिचय, सृष्टि-उत्पत्ति और वर्णन

भागवत पुराण में वर्णन है

भागवत पुराण में वर्णन है कि जीव को संसार का आकर्षण खींचता है।

उसे उस आकर्षण से हटाकर अपनी ओर आकषिर्त करने के लिए जो तत्व साकार रूप में प्रकट हुआ।

उस तत्व का नाम श्रीकृष्ण है।

जिन्होंने अत्यंत गूढ़ और सूक्ष्म तत्व अपनी अठखेलियों।

अपने प्रेम और उत्साह से आकषिर्त कर लिया।

ऐसे तत्वज्ञान के प्रचारक, समता के प्रतीक भगवान श्रीकृष्ण के संदेश, उनकी लीला और उनके अवतार लेने का समय सब कुछ अलौकिक है।

इन्हें भी पढ़ें 👇
  1. Makhana रोज खाएं मखाना और बीमारियों कई बीमारियों से बचें
  2. Gomukhasana yoga गोमुखासन करने की विधि और लाभ
  3. Neem नीम के औषधीय फायदे और सावधानी neem remidies
  4. Agni puran से बुद्ध और कल्कि अवतार भगवान् विष्णु के अवतार कि कथा
  5. Natarajasana yoga karne ka tarika or savdhani
  6. Tulsi के 140 आयुर्वेदिक औषधीय लाभ जो रखे आपको स्वस्थ
  7. Historical places of India भारत के ऐतिहासिक स्थल
  8. Papita पपीता के आयुर्वेदिक औषधियां फायदे
  9. Vedas हिन्दू वेदों के प्रकार, इतिहास, वेद-सार और भी बहोत कुछ जानें
  10. Giloy ke fayde स्वाइन फ्लू, डेंगू और चिकनगुनिया के लिए रामबाण है
  11. Egg peel अंडे के छिलके से पाए खूबसूरत त्वचा जाने इस्तेमाल का तरीका
  12. Vrschikasana yoga करने का सही तरीका लाभ और सावधानी
  13. Chaval ke face pack se 2 din me hoga rang gora
  14. Aromatherapy बेहतर यौन जीवन के लिए अरोमाथेरेपी
  15. Hindu dharmgranth and culture हिन्दू धर्मग्रन्थ और हिन्दू संस्कृति
  16. Hindu dharm हिंदू धर्म का इतिहास और मुख्य सिद्धांत
  17. Til khane ke fayde तिल खाने के औषधीय लाभ
  18. Virasana yoga वीरासन योग करने का तरीका और लाभ
  19. Bakasana yoga बकासन करने का तरीका और लाभ
  20. Sadness उदासी दूर करना चाहते हैं, तो इन 5 चीजों से बनाएं दूरी
  21. Pudina ke fayde पुदीने के फायदे और इसके औषधीय गुण
  22. Weight loss घर बैठे करें वजन घटाने वाले व्यायाम
  23. Body banaye keval 30 din me or rahe fit complete guide
  24. Healthy upvas कैसे करें हेल्दी उपवास जानिए 10 डाइट टिप्स
  25.  Kurmasana yoga कुर्मासन का लाभ और विधि
  26. Alcohol massage अल्कोहल मसाज के 5 बेहतरीन फायदे
  27. aitra Navratri vrat चैत्र नवरात्रि व्रत में कैसे रखे अपना ख्याल
  28. Suriya namaskar or om योग का अंग है ‘ॐ’ और ‘सूर्य नमस्कार’
  29. Nasal congestion बंद नाक के 10 घरेलू इलाज
  30. Kali khansi ke gharelu ilaj काली खांसी के 10 घरेलू इलाज
  31. 5 vegetables Jo sehat or sundarta ko nikharati he

Rajji Nagarkoti

My name is Abhijeet Nagarkoti . I am 31 years old. I am from dehradun, uttrakhand india . I study mechanical. I can speak three languages, Hindi, Nepali, and English. I like to write blogs and article

Leave a Reply