Back pain स्लिप डिस्क या कमर दर्द के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार
Back pain - स्लिप डिस्क याद कमर दर्द कोई बीमारी नहीं है बल्कि यह शरीर की एक तरह से यांत्रिक असफलता है।

Back pain स्लिप डिस्क या कमर दर्द के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

Back pain – स्लिप डिस्क याद कमर दर्द कोई बीमारी नहीं है बल्कि यह शरीर की एक तरह से यांत्रिक असफलता है।

Back pain – कमर दर्द के सबसे महत्वपूर्ण कारण रीड से या मेरुदंड spinal cord से जुड़े होते हैं।

स्पाइन कॉर्ड या रीड की हड्डी स्पाइन वर्टिब्रा vertebrae से मिलकर बनती है।

जिस पर शरीर का पूरा वजन टिका होता है।

यह सिर के निचले हिस्से से शुरू होकर टेल बोन tail bone तक होती है।

हमारी रीढ़ की हड्डी में हर दो वर्टिब्रा vertebrae के बीच में एक डिस्क होती है।

जो झटका सहने का यानी shock absorber का काम करती है।

आगे पीछे दाएं बाएं काम करने से इसका फैलाव होता है।

गलत तरीके से काम करने पढ़ने, उठने बैठने, या झुकने, से डिश पर लगातार जोर पड़ता है।

इससे मेरुदंड की नसों nerves पर दबाव आ जाता है।

जो कमर पर लगातार होने वाले दर्द का कारण बनता है।

इस देश के घर जाने से इस में सूजन आ जाती है,

और यह उभर कर बाहर आ जाती है।

इसके बाद रीढ़ की हड्डी से पैरों तक जाने वाली नसों पर दबाव डालती है।

न से दबने से यह दर्द पैरों तक भी जा सकता है।

( Back pain ) स्लिप डिस्क या कमर दर्द के कारण वह घरेलू आयुर्वेदिक उपचार क्या है?

इससे पैर सुन हो जाने का खतरा रहता है।

इससे दर्द कितना कर टाइप हो जाता है कि मरीज अपने दैनिक कार्य करने तक में असमर्थ हो जाता है।

  1. ( Insomnia ) इनसोम्निया – अनिद्रा के कारण लक्षण और घरेलू उपचार क्या है?
  2. ( Mouth ulcer ) मुंह के छालों के लक्षण कारण व आयुर्वेदिक घरेलू नुस्खे
  3. ( Obesity ) मोटापे कम करने के घरेलू वह आयुर्वेदिक नुस्खे
  4. ( Anemia )खून की कमी के कारण, लक्षण ओर घरेलू आयुर्वेदिक इलाज
  5. ( high blood pressure ) उच्च रक्तचाप के लक्षण, कारण, वह घरेलू उपचार
  6. Eye infection- आंखो का इंफेक्शन हानिकारक शुक्ष्म जीवाणु बैक्टीरिया ओर वाइरस के कारण होता है।

कमर दर्द अब लोगों के लिए कष्टकारी बनी हुई है।

( Back pain ) स्लिप डिस्क या कमर दर्द के कारण वह घरेलू आयुर्वेदिक उपचार क्या है?
( Back pain ) स्लिप डिस्क या कमर दर्द के कारण वह घरेलू आयुर्वेदिक उपचार क्या है?

आज हर उमर के लोग इससे परेशान है वह दुनिया भर में इसके सरल और सहज इलाज की खोज जारी है।

दिन भर बैठ के काम करने पर इसकी समस्या और बढ़ जाती है।

Back pain कमर दर्द अगर नीचे की तरफ बढ़ने लगे और तेज हो जाए, तो जल्द से जल्द डॉक्टर को दिखाएं।

कभी-कभी दर्द कुछ मिनटों के लिए होता है और कभी-कभी यह घंटों रहता है।

30 से 50 वर्ष के आयु के लोग इसकी चपेट में अधिक आते हैं।

साथ ही महिला और पुरुष इसके अधिक शिकार होते हैं जिन्हें अपने काम की वजह से बार-बार चढ़ना उतरना हुआ सामान उतारना चढ़ाना होता है।

कमर दर्द के लक्षण ये है की चलने फिरने बस सामान्य कार्य करने में भी दर्द होना,

झुकने या खास ने पे शरीर में करंट का अनुभव होना।

नसों में दबाव के कारण कर्म कमर दर्द या पैरों में दर्द, या ईडीया,

पैरों की उंगलियों का सुन्न पड़ जाना।

पैर के अंगूठे या पंजों में कमजोरी, रेड के निचले हिस्से में असहनीय दर्द,

समस्या बढ़ने पर पेशाब या मल त्यागने में परेशानी,

स्पाइनल कॉर्ड के बीच में दबाव पड़ने से कई बार हिप्स थाइज़ के आसपास सुन महसूस करना।

स्लिप डिस्क back pain या कमर दर्द होने के कुछ प्रमुख कारण।

गलत पोस्चर – लेट कर या झुक कर पढ़ना या काम करना,

कंप्यूटर के आगे बैठे रहना, अचानक झुकना, वजन उठाना,

झटका लगना, गलत तरीके से उठना बैठना,

अनियमित जीवन चर्या,

सुस्त जीवन शैली, शारीरिक गतिविधि कम होना, गिरना , फिसलना ,

दुर्घटना में चोट लगना,

देर तक ड्राइविंग करना,

उम्र बढ़ने के साथ-साथ हड्डियां कमजोर होने लगती है।

और इसके डिस्क पर जोर पड़ने लगता है।

कमर की हड्डी या रीढ़ की हड्डी जन्मजात विकृति या संक्रमण,

पैरों में कोई जन्मजात खराबी यह बात में कोई पैदा विकार होना।

कमर दर्द back pain का सामान्य उपचार।

कमर दर्द के ज्यादातर मरीजों को आराम करने और फिजियोथेरेपी से राहत मिल जाती है।

स्लिप डिक्स या कमर दर्द होने पर 2 से 3 हफ्ते पूरा आराम करना चाहिए।

दर्द कम करने के लिए डॉक्टर की सलाह पर दर्द निवारक दवाएं मांसपेशियों को राहत देने वाली दवाई लें।

जीवन शैली बदले वजन नियंत्रित रखें खास तौर पर पेट के आसपास चर्बी बढ़ने से सीधा रीड की हड्डी पर असर पड़ता है।

नियमित रूप से पैदल चले यह सर्वोत्तम व्यायाम है।

शारीरिक श्रम से जी ना चुराए,

शारीरिक श्रम से मांसपेशियां मजबूत होती है,

अधिक समय तक स्टूल या कुर्सी पर जो करना बैठे, कुर्सी पर बैठते समय पैर सीधे रखें,

नाक की एक पर एक चढ़ाकर।

MOHAK Full Body Massage Cushion with 9 Vibrating Motors and 4 Therapy Heating Pad for Body Pain Relief
MOHAK Full Body Massage Cushion with 9 Vibrating Motors and 4 Therapy Heating Pad for Body Pain Relief BUY NOW 👆

अचानक झटके से ना उठे बैठे, एक से अधिक मुद्रा पर ना तो बैठे रहे ना तो खड़े रहे,

किसी भी सामान को उठाने या रखने पर जल्दबाजी ना करें,

भारी समान को उठाने के बजाय धकेल के रखना चाहिए,

जमीन से कोई सामान उठाना हो तो झुके नहीं बल्कि किसी स्टूल पर बैठे या घुटनों केबल नीचे बैठे और सामान उठाए,

( Back pain ) स्लिप डिस्क या कमर दर्द के कारण वह घरेलू आयुर्वेदिक उपचार क्या है?

कमर झुकाकर काम ना करें, अपनी पीठ को हमेशा सीधी रखें,

ऊंची एड़ी के चप्पल जूते के बजाय साधारण जूते चप्पल पहने, सीढ़ियां चढ़ते उतरते समय सावधानी बरतें,

यदि अधिक समय तक खड़ा होना हो तो अपनी स्थिति को बदलते रहे,

दाएं बाएं पीछे देखने के लिए गर्दन को ज्यादा घुमाने के बजाय शरीर को घुमाएं,

  1. ( Diarrhea ) के कारण, लक्षण, वह आयुर्वेदिक इलाज।
  2. ( Peptic ulcer ) पेट के अल्सर का घरेलू वह आयुर्वेदिक इलाज
  3. Chikungunya बुखार का सबसे सरल और effective homopyethi वह घरेलू उपाय
  4. Gangrene – किसी अंग के सर्ड जाने का सब से असरदार आयुर्वेदिक इलाज
  5. अब पैसे कमाए घर बैठे इन 5 ऑनलाइन तरीकों से
  6. जोड़ों के दर्द का आसान घरेलू आयुर्वेदिक उपचार कैसे करें
  7. 1947 के बाद से कांग्रेस पार्टी द्वारा सबसे बड़ा, सबसे हानिकारक दोष क्या है?
अधिक देर तक ड्राइविंग करनी हो तो गर्दन या पीठ की तरफ से तकिया रखें, ताकि पीठ सीधी रहे।

साधारण तकिए के का इस्तेमाल बेहतर होता है,

अधिक मुलायम व सख्त गद्दे पर ना सोए, स्प्रिंग वाले गद्दे या गीले निवाड़ी वाले गद्दे पेश सोने से बचें,

पेट के बल या उल्टे होकर ना सोए, परंपरागत तरीकों से आराम ना पहुंचे तो सर्जरी ही एक उपाय,

लेकिन सर्जरी होगी या नहीं यह पूरी तरह से निर्णय विशेषज्ञ का होता है।

कमर की मांसपेशियों का असंतुलित होना ही कमर दर्द का कारण होता है,

कमर दर्द सही तरह से उठने बैठने या सोने या कमर पर क्षमता से अधिक दबाव पड़ने पर होता है,

लगभग 80% लोग कभी ना कभी कमर दर्द की समस्या से परेशान होते।

कमर दर्द नया भी हो सकता है और पुराना भी हो सकता है,

सतही तौर पर देखने पर कमर में होने वाला दर्द भले ही एक सामान्य सी स्थिति लगती है,

लेकिन इसे नजरअंदाज करने से समस्या काफी बढ़ सकती है।

घुटने मोड़े – नीचे रखी किसी वस्तु को उठाते वक्त पहले घुटने मोड़े फिर उस वस्तु को उठाएं,

ऐसा करने से कमर पर अनावश्यक बल कम पड़ेगा और कम तकलीफ होगी।

लहसुन – भोजन में लहसुन का पर्याप्त उपयोग करें, लहसुन कमर दर्द का अच्छा उपचार माना गया है,

लहसुन के उपयोग से पुराने से पुराना कमर दर्द भी ठीक होने लगता है।

Back pain जानिए कमर दर्द दूर करने के कुछ घरेलू नुस्खे।
SandPuppy Heatwrap - Heating Pad Electric For Back, Shoulder, Elbow & Knee Pain Relief (Black)
SandPuppy Heatwrap – Heating Pad Electric For Back, Shoulder, Elbow & Knee Pain Relief (Black) BUY NOW 👆

गुगूल – गुगूल कमर दर्द में बेहतर राहत देता है, कमर दर्द के उपचार के लिए गुगूल आधा चम्मच एक कप गर्म पानी के साथ सुबह-शाम सेवन करें, ऐसा करने से कमर दर्द में आराम मिलता है।

मसाला चाय – चाय बनाने में पांच कालीमिर्च के दाने 5 लोंग पीसकर थोड़ा सा अदरक का पाउडर डालें, दिन में दो बार इस तरह की मसाला चाय पिए, मसाला चाय पीते रहने से कमर दर्द में लाभ होगा।

सत विस्तर – सत बिस्तर में सोने से भी कमर दर्द में काफी आराम मिलता है,

ऐसा करने से कमर समतल रहती है और पूरे शरीर में बराबर दबाव रहता है,

औंधे मुंह पेट के बल सोना भी हानिकारक है।

बर्फ की सिकाई – दर्द वाली जगह पर बर्फ का उपयोग करना भी लाभकारी उपाय है,

इससे भी तरी सूजन भी समाप्त होगी, कुछ रोज बर्फ की सिकाई करने के बाद गर्म सिकाई प्रारंभ कर देने से अनुकूल परिणाम मिलते हैं।

दालचीनी – 2 ग्राम दालचीनी का पाउडर एक चम्मच शहद में मिलाकर दिन में दो बार लेते रहने से कमर दर्द में राहत मिलती है।

शरीर को गर्म रखें – कमर दर्द अगर पुराना हो तो शरीर को गर्म रखें और गर्म वस्तु खाए, ऐसा करने से कमर दर्द में बेहद राहत मिलती है,

सर्दियों में दर्द ज्यादा हो तो ध्यान रखें के दर्द वाला हिस्सा हवा के संपर्क में ना आए।

( Back pain ) स्लिप डिस्क या कमर दर्द के कारण वह घरेलू आयुर्वेदिक उपचार क्या है?

भाप की सिकाई – नमक रहित गर्म पानी में एक तो लिया डाल कर निचोड़ लें,

पेट के बल लेट कर तो लिया द्वारा भाप लेने से कमर दर्द में काफी लाभ मिलता है।

मालिश – रोज सुबह सरसों के तेल में लहसुन की 3 से 4 कलियां डालकर जब तक लहसुन की कलियां खाली ना हो जाए तब तक गर्म कर ले फिर ठंडा कर प्रभावित जगह पर मालिश करें।

नमक – कढ़ाई में दो-तीन चम्मच नमक डालकर इसे अच्छे से सीख ले,

थोड़े मोटे सूती कपड़े में यह नमक डालकर पोटली बांध ले,

और इससे कमर पर सिकाई करें, काफी लाभ मिलेगा।

पोस्टिक भोजन – भोजन में टमाटर, चुकंदर, गोभी, खीरा, ककड़ी, गाजर, पालक, जैसी सब्जियों का भरपूर मात्रा में प्रयोग करें।

Dr Physio (USA) Electric Hammer Pro Body Massager
Dr Physio (USA) Electric Hammer Pro Body Massager BUY NOW 👆

( Back pain ) स्लिप डिस्क या कमर दर्द के कारण वह घरेलू आयुर्वेदिक उपचार क्या है?

  1. भारत में आर एस एस के 10 महत्वपूर्ण योगदान
  2. Home remedies for diabetes
  3. बालों के झड़ने का इलाज, home remedies
  4. किडनी के सभी बीमारियों का आयुर्वेदिक इलाज
  5. दिल के सभी रोगों का आयुर्वेदिक इलाज
  6. पेट के सभी रोगों के कारन और आसान घरेलु आयुर्वेदिक उपचार
  7. भारत का ऐशा कामियाब मिशन जिसने चौंका दिया पूरी दुनिया को
  8. पथरी का सबसे सरल आयुर्वेदिक ओर होम्योपैथी इलाज
  9. Constipation or कब्ज का घरेलू आयुर्वेदिक उपचार
  10. जाने आयुर्वेद के नियम अगर जिना है सुवास्थ जीवन
  11. चीनी किशोर जिसने बेच दी किडनी iPhone के लये।

Rajji Nagarkoti

My name is Abhijeet Nagarkoti . I am 31 years old. I am from dehradun, uttrakhand india . I study mechanical. I can speak three languages, Hindi, Nepali, and English. I like to write blogs and article

This Post Has 16 Comments

  1. JerryVAb

    doonlibrary.in james naughton cialiscialis 20mg idealo Cialis Online cialis 20mg idealocialis for bph reviews Health cialis dosis maxima diaria

  2. acubretub

    Generique Amoxicillin En Ligne Buy [url=https://cheapcialisll.com/]buy generic cialis[/url] Keflex Prostate Infection Dog cialis online without prescription Vardenafil Withdrawal

  3. Hello mates, fastidious piece of writing and nice arguments commented here, I am truly enjoying by these.

Leave a Reply